नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्टार्टअप इंडिया और स्टैंडअप इंडिया अभियान का असर अब स्कूल के बच्चों पर भी होने लगा है। छात्रों की स्टार्टअप परियोजनाओं को सही दिशा देने में मदद और उन्हें सही मेंटर्स के साथ जोड़ने व उद्यमी बनाने के लिए दिल्ली पब्लिक स्कूल, वसंत कुंज की छात्रा  भार्गवी गोयल ने एक ग्लोरीफायर ऐप तैयार किया है जिसके जरिए छात्र सीधे उद्यमियों से संपर्क कर सकेंगे। इस ऐप को द एंट्रेेप्रिन्योरशिप स्कूल (टीईएस) ने इंक्यूबेशन के लिए चुना है।
भार्गवी का कहना है कि स्कूल की हेड गर्ल होने के नाते उन्हें छात्रों की परेशानियों का आभास है, उनके स्कूल के छात्र और दूसरे दोस्तों ने अलग-अलग तरह के कई ऐप को तैयार किए हैं लेकिन उन्हें यह पता नहीं चल रहा है कि कैसे सही उद्यमी तक ऐप के साथ पहुंचा जाए, इसी सोच के साथ उन्होंने इस ऐप को तैयार करने का विचार किया।
उन्होंने कहा, ‘‘इस ऐप की सबसे बड़ी खासियत छात्रों को ऐसा मंच उपलब्ध कराना है जिससे वे अपने ऐप के लिए आसानी से चीजें तलाश सकें और उद्यमी भी छात्रों से जुड़ कर बहुत कम लागत में अपने मनमुताबिक ऐप पा सकें। यह ऐप एक प्लेटफार्म की तरह काम करता है जहां ऐप डेवलप करने वाले अपने प्रोजेक्ट को अपलोड करके दूसरों से उसके बारे में चर्चा कर सकते हैं। आप चाहें तो अपनी टीम चुन कर काम कर सकते हैं और  एक दूसरे से अपनी कल्पनाशीलता के बारे में विचार-विमर्श कर सकते हैं। इस ऐप से छात्र अपने मेंटर्स को भी चुन  सकते हैं जो ऐप को तैयार करने और उसकी खामियों को दूर करने में छात्रों की मदद करेंगे।’’
मेधावी छात्रा ने कहा, ‘‘इस ऐप में विज्ञान, सामाजिक विज्ञान, इंजीनियरिंग, पेंटिंग, फोटोग्राफी, स्कल्पचर, चैरिटी कार्य, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट जैसी कई अलग-अलग कैटेगरी हैं जिसमें से छात्र अपने मनपसंद कैटेगरी को चुन सकते हैं और उन पर काम शुरू कर सकते हैं। जैसे ही आप अपनी पसंद की कैटेगरी चुनेंगे उसमें उस कैटेगरी से जुड़ी प्रोजेक्ट्स आपको वहां दिखेगा, अगर आप किसी टीम में शामिल होना चाहे तो प्रोजेक्ट लीडर से संपर्क कर सकते हैं और टीम में शामिल हो सकते हैं। इसी तरह जब आपके प्रोजेक्ट को अगर टीम या मेंटर की जरूरत है जो वह भी आप से जुड़ सकते हैं। ’’

http://aajtak24.in/news.php?news=23210