By RAVI NAMDEV on January 18, 2017 at 5:43 PM

भारत नित नई उन्नति कर रहा है और भारत के साथ ही भारत के युवा भी उन्नति की ओर तेजी से अग्रसर हो रहे है। देश में बेरोजगारी मिटाने के लिए प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना कई लोगों को लाभ पहुंचा रही है वहीं स्टार्टअप भी युवाओं को कमाने की एक नई राह दे रहा है। हाल ही में एक 12वीं की स्टूडेंट ने एक ऐसा एप बनाया है जिससे छात्र सीधे उद्यमियों से जुड़ सकेंगे।

दिल्ली की लड़की भार्गवी गोयल ने एक ऐसा एप निजात कर दिया है जिससे छात्र सीधे तौर पर उद्यमियों से जुड़ सकेंगे। आपको बता दें कि भार्गवी दिल्ली की रहने वाली और दिल्ली पब्लिक स्कूल में बारहवी की छात्रा है। उनके एप का नाम ग्लोरिफायर-गिव फायर टू ड्रीम्स है जिसे गुरूग्राम स्थित द इंटरप्रेन्योरशिप स्कूल ने अपने इनक्यूबेशन प्रोग्राम में शामिल कर लिया है।

प्रधानमंत्री ने कुछ सालों पहले ही स्टार्टअप इंडिया और स्टैंडअप इंडिया नाम के अभियान शुरू किए थे। इसका असर देश के लोगों पर हुआ तो था लेकिन कुछ लोग इसे ठीक से समझ नहीं पाए थे। लेकिन अब इसका असर बच्चों पर भी होने लगा है। बच्चे जो कि भावी युवा है उन्हें स्टार्टअप के जरिए अपने करियर को उड़ान देने के लिए क्या जरूरी है वे अब इसमें रूचि लेने लगे है।

भार्गवी ने ‘यूनीवार्ता’ से बातचीत में कहा कि स्कूल की हेड गर्ल होने के नाते उन्हें छात्रों की परेशानियों का आभास है, उनके स्कूल के छात्र और दूसरे दोस्तों ने अलग-अलग तरह के कई ऐप को तैयार किये हैं लेकिन उन्हें यह पता नहीं चल रहा है कि कैसे सही उद्यमी तक ऐप के साथ पहुंचा जाये, इसी सोच के साथ उन्होंने इस ऐप को तैयार करने का विचार किया ।

उन्होंने कहा, “ इस ऐप की सबसे बड़ी खासियत छात्रों को ऐसा मंच उपलब्ध कराना है जिससे वे अपने ऐप के लिये आसानी से चीजें तलाश सकें और उद्यमी भी छात्रों से जुड़ कर बहुत कम लागत में अपने मनमुताबिक ऐप पा सकें। ” भार्गवी ने कहा, “ यह ऐप एक प्लेटफार्म की तरह काम करता है जहां ऐप डेवलप करने वाले अपने प्रोजेक्ट को अपलोड करके दूसरों से उसके बारे में चर्चा कर सकते हैं । आप चाहें तो अपनी टीम चुन कर काम कर सकते हैं और एक दूसरे से अपनी कल्पनाशीलता के बारे में विचार-विमर्श कर सकते हैं।

इस ऐप से छात्र अपने मेंटर्स को भी चुन सकते हैं जो ऐप को तैयार करने और उसकी खामियों को दूर करने में छात्रों की मदद करेंगे ।” मेधावी छात्रा ने कहा,“इस ऐप में विज्ञान, सामाजिक विज्ञान, इंजीनियरिंग, पेंटिंग, फोटोग्राफी, स्कल्पचर, चैरिटी कार्य, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट जैसी कई अलग-अलग कैटेगरी हैं जिसमें से छात्र अपने मनपसंद कैटेगरी को चुन सकते हैं और उन पर काम शुरू कर सकते हैं। जैसे ही आप अपनी पसंद की कैटेगरी चुनेंगे उसमें उस कैटेगरी से जुड़ी प्रोजेक्ट्स आपको वहां दिखेगा, अगर आप किसी टीम में शामिल होना चाहे तो प्रोजेक्ट लीडर से संपर्क कर सकते हैं और टीम में शामिल हो सकते हैं । इसी तरह जब आपके प्रोजेक्ट को अगर टीम या मेंटर की जरूरत है जो वह भी आप से जुड़ सकते हैं।

भार्गवी ने प्रधानमंत्री की तारीफ करते हुये कहा कि उनके सत्ता में आने के बाद छात्रों को ऐसे नवोन्मेषी कार्यों को करने का हौसला मिला है और उन्हें पता है कि युवा भारतीयों की क्षमता का उपयोग कैसे करना है । उन्होंने कहा कि इस एंड्रॉयड ऐप को मिल रही सकारात्मक प्रतिक्रिया एवं समर्थन से वह काफी उत्साहित है और इसमें सुधार करने के साथ-साथ वह इसका आईओएस (एप्पल फोन) वर्जन भी तैयार कर रही है ।

इस मौके पर टीईएस के निदेशक मसरूर लोदी ने कहा कि उन्होंने भार्गवी के इस ऐप को अपने इनक्यूबेशन प्रोग्राम में इसलिये शामिल किया है क्योकि वह युवा है और उसकी सोच काफी प्रभावशाली है। मसरूर लोदी ने कहा, “ हम मानते हैं की एक बेहतर इनक्यूबेशन से उनकी क्षमता का पूरी तरह से उपयोग हो सकेगा और आगे चल कर इसका अच्छा परिणाम मिलेगा। यह ऐसा ऐप है जिससे युवा सशक्तीकरण बढ़ेगा, हर छात्र को अपनी कल्पना को एक स्टार्टअप में बदलने में ग्लोरिफायर ऐप मदद करता है ।” उन्होंने कहा, “ टीईएस ऐसे छात्रों को मंच प्रदान करता है जिनके जरिये विद्यार्थी अपनी कल्पनाशीलता को सच्चाई में बदल सकते हैं। ऐप के मामले में आम तौर पर युवाओं के पास सोच तो होती है और उसे तैयार करने की शुरुआत करते हैं लेकिन सही मार्गदर्शन नहीं मिलने से वे इसे बीच में ही छोड़ देते हैं, ऐसे में हम उन्हें पूरा साथ देते और उन्हें हर तरह की तकनीक के साथ मदद मुहैया कराते है।” उन्होंने कहा निष्ठावान एकेडमीशियन और उद्यमियों द्वारा स्थापित उनके स्कूल का विजन है कि शिक्षण संस्थान विद्यार्थियों, उद्यमियों और स्टार्टअप अभियान से जुड़ने वालों के लिए दीर्घ एवं लघु अवधि के प्रोग्राम प्रदान कराये।

http://www.youthensnews.com/delhi-school-girl-make-an-app-for-student-and-enterprenure/